महानिदेशक, आईटीबीपी का संदेश

श्री संजय अरोरा

श्री संजय अरोरा, भा.पु.से.

        मेरे लिए यह बहुत गर्व का विषय है कि मुझे इस विशिष्ट बल का नेतृत्व करने का दायित्व सौंपा गया है जो देश की समर्पित सेवा में 6 दशक पूरा करने जा रही है I

      1962 में भारत-चीन संघर्ष के दौरान केवल 04 बटालियनों के साथ भारत तिब्बत सीमा पुलिस का गठन हुआ था। वर्तमान में यह बल 02 कमांड हेडक्वार्टर्स, 05 फ्रंटियर हेडक्वार्टर्स, 15 सेक्‍टर हेडक्वार्टर्स, 60 बटालियंस और 17 प्रशिक्षण केंद्रों के साथ राष्‍ट्र की सेवा में तत्‍पर है। बल उत्‍तर-पश्चिम में लद्दाख के काराकोरम दर्रे से अरुणाचल प्रदेश के जाचेप ला कुल 3488 किमी. लंबी दुर्गम भारत-चीन सीमा की निगरानी का कार्य पूरी मुस्‍तैदी से निभा रहा है। आईटीबीपी की अधिकांश अग्रिम चौकियां 18,800 फीट तक की ऊँचाइयों पर स्थित हैं जो बहुत ही कठिन और विषम मौसमी परिस्थितियों, दुरूह भू क्षेत्रों में स्थित हैं।

      सर्दियों के दौरान अधिकांश अग्रिम चौकियां सड़क मार्गों से कट जाती हैं और वहां हिमवीरों को उच्‍च तुंगता, अत्‍यधिक सर्दी के खतरों के अलावा अन्‍य जलवायु परिस्थितियों और चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, जहाँ सर्दियों में तापमान शून्य से 45 डिग्री सेल्सियस तक नीचे चला जाता है। सीमावर्ती अग्रिम चौकियों में बल के जवानों के लिए बर्फीले तूफान, हिम और भूस्खलन जैसे प्राकृतिक प्रकोप का खतरा हमेशा बना रहता है।

      आईटीबीपी सीमा सुरक्षा के साथ-साथ प्रतिविद्रोहिता ड्यूटियों, आंतरिक सुरक्षा ड्यूटियों, महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा और छत्‍तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित इलाकों में नक्‍सल विरोधी अभियानों में सराहनीय कार्य कर रही है। महानिदेशालय, भा.ति.सी.पु. बल की निरंतर निगरानी में यह बल लगातार आगे बढ़ रहा है। हमारा प्रयास आईटीबीपी को आधुनिक उपकरणों और गैजेट्स आदि से लैस करना है, ताकि बल की संचलन क्षमता में उत्‍तरोत्‍तर वृद्धि हो सके।

      हम देश की संप्रभुता और सुरक्षा को बनाए रखने और मातृभूमि की रक्षा हेतु अपने कर्तव्य का पालन करते हुए सर्वोच्च बलिदान देने वाले अपने हिमवीर साथियों को नमन करते हैं। उनका बलिदान हमें सदैव प्रेरणा देता रहेगा। हम अपने उन हिमवीर साथियों के प्रति भी सम्मान व्‍यक्‍त करते हैं जो कर्तव्य के पथ बढ़ते हुए घायल हुए हैं I

      मैं आईटीबीपी के सभी पदाधिकारियों और उनके परिवारजनों को हार्दिक बधाई देता हूँ और उन्हें अपनी हार्दिक शुभकामनाएं प्रेषित करता हूँ।

जय हिन्द!

(संजय अरोरा)
महानिदेशक
भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल